अयोध्या करती है आह्वान, ayodhya karti hai ahwan lyrics

Read bhajan named ayodhya karti hai ahwan lyrics in Hindi. श्री राम जो मर्यादा पुरुषोत्तम है उनके पुनः मंदिर निर्माण के लिए यह गीत लिखा गया है। जो भक्तों को उनके सोई हुई अवस्था से उठाकर जागृत करता है।

अपने मान-सम्मान तथा आस्था को ठोस पहुंचाने वालों से सतर्क रखने के लिए यह प्रेरित गीत है। जो राम करोड़ों हिंदू की आस्था का विषय है। उनका मंदिर तो ठाठ से ही बनना चाहिए , मंदिर निर्माण से संबंधित या जोशीला गीत प्रस्तुत है –

अयोध्या करती है आह्वान ठाट से कर मंदिर निर्माण – Ayodhya karti hai ahwan lyrics

अयोध्या करती है आव्हान,
ठाट से कर मंदिर निर्माण,
शीला की जगह लगा दे प्राण,
बिठा दे वहां राम भगवान ।

 

सजग हो रघुवर की संतान,
ठाट से कर मंदिर निर्माण ।

 

हिन्दू है तो हिन्दुओ की आन मत जाने दे,
राम लला पे कोई आंच मत आने दे,
कायर विरोधियो को शोर मचाने दे,
जय श्री राम,
कायर विरोधियो को शोर मचाने दे,
लक्ष्य पे रख तू ध्यान ।
अयोध्या करती है आव्हान,
ठाट से कर मंदिर निर्माण ॥

 

मंदिर बनाने का पुराना अनुंबध है,
सब तेरे साथ पूरा पूरा प्रबंध है,
कार सेवको के बलिदान की सौगंध है,
जय श्री राम,
कार सेवको के बलिदान की सौगंध है,
बढ़ चल वीर जवान ।
अयोध्या करती हैं आव्हान,
ठाट से कर मंदिर निर्माण ॥

 

इत शिवसेना उत बजरंग दल है,
दुर्गावाहिनी में शक्ति प्रबल है,
प्रण विश्वहिंदू परिषद का अटल है,
जय श्री राम,
प्रण विश्वहिंदू परिषद का अटल है,
जो हिमगिरि की चट्टान ।
अयोध्या करती है आव्हान
ठाट से कर मंदिर निर्माण ।

 

जिस दिन राम का भवन बन जाएगा,
उस दिन भारत में राम राज आएगा,
राम भक्तो का ह्रदय मुस्काएगा,
जय श्री राम,
राम भक्तो का ह्रदय मुस्काएगा,
खिलते कमल समान ।
अयोध्या करती है आव्हान
ठाट से कर मंदिर निर्माण ।

सजग हो रघुवर की संतान
ठाट से कर मंदिर निर्माण ।
॥ जय श्री राम ॥

शब्दार्थ – आह्वान – पुकारना , ठाट – शान , सजग – सतर्क , आंच – संकट , अनुबंध – कॉन्ट्रेक्ट / पूर्व से बचन में बंधे , बलिदान – प्राण की आहुति , हिमगिरि – हिमालय के पर्वत ,

भावार्थ ( ayodhya karti hai ahwan ) –

प्रस्तुत गीत में राम मंदिर को पुनः ठाठ से निर्माण करने के लिए आह्वान किया जा रहा है। जो राम को ईश्वर मानते हैं , आराध्य मानते हैं और उनकी दिन रात पूजा करते हैं। ऐसे भक्तों को मंदिर निर्माण में शामिल होने के लिए आह्वान किया जा रहा है।

जो राम अपने भवन में होने चाहिए वह आज अपने भवन से निष्कासित एक टेंट में विराजमान है। उन्हें पुनः उचित स्थान पर बैठाने के लिए , राम भक्तों को प्राण की भी चिंता ना करते हुए उनका पुनः भवन में स्थापना हो सके ऐसा संकल्प करना चाहिए। इसके खातिर प्राण भी चले जाए तो कोई गम नहीं।

इस कार्य के लिए है रघुवीर की संतानों , हे राम की संतानों उठो और ठाठ से पुनः मंदिर निर्माण कार्य में जुट जाओ।

जिन आक्रांताओं ने हमारे मान-सम्मान और आस्था पर चोट किया उन्हें जवाब देने का अवसर आ गया है।

Ayodhya karti hai ahwan lyrics meaning

कायर विरोधी चाहे कितना ही शोर मचाए , चाहे कितने ही आंदोलन करें। पर श्री राम का मंदिर तो बनकर रहेगा। उन विरोधी कायरों को चिल्लाने दो , हल्ला मचाने दो , तुम अपने रामलला को ठाठ से उनके मंदिर में पुनः स्थापित करने के लिए उठो और जागो।

जैसा कि हमारा मंदिर बनाने का पुराना ही संकल्प है , उसका प्रबंध भी पूरा है जिसका कार्य निरंतर जारी है। जिन कारसेवकों ने मंदिर की खातिर बलिदान दिया। उनकी सौगंध लेते हुए उनके बलिदान को कभी व्यर्थ नहीं जाने देंगे। उन वीरों के बलिदान को हम सदैव याद रखते हुए अयोध्या के मंदिर में अपनी भागीदारी सुनिश्चित करें और ठाठ से मंदिर निर्माण के कार्य में जुट जाएं।

एक और जहां बजरंग दल है , शिवसेना है , दुर्गा वाहिनी है,  विश्व हिंदू परिषद है। इतने सामर्थ साली संगठन होते हुए अगर हम चुप बैठ जाए तो यह हमारे लिए ठीक नहीं रहेगा। जो हमारी रक्षा में हिमालय दिन-रात खड़ा रहता है ,उसकी गोद में रहने वाले हम भारतवासी अपने जज्बात जोश को कैसे कम करें।

उठो और ठाठ से मंदिर निर्माण कार्य में जुट जाओ।

यकीन मानिए जिस दिन रामलला का भवन पुनः बन जाएगा , उनका मंदिर पुनः स्थापित हो जाएगा उस दिन भारत पुनः रामराज्य की ओर स्वतः बढ़ जाएगा। राम भक्तों का हृदय प्रफुल्लित हो जाएगा , फूल की भांति खिल जाएगा , चारों और से मंदिर निर्माण करने के लिए आगे बढ़ो और जब तक मंदिर का काम पूरा ना हो जाए। रघुवीर को पुनः अपना आसन ना मिल जाए , तब तक सजग रहकर कार्य करना होगा। ।

Read more bhajan lyrics

छठ गीत लिरिक्स 

प्रभु जी तुम चन्दन हम पानी लिरिक्स 

आओ हम सब करें समर्पित राम मंदिर गीत 

हनुमान चालीसा हिंदी लिरिक्स

शिव चालीसा लिरिक्स हिंदी 

लक्ष्मी चालीसा लिरिक्स 

शनि चालीसा लिरिक्स

दुर्गा चालीसा लिरिक्स 

कृष्ण चालीसा लिरिक्स 

गणेश चालीसा लिरिक्स 

सांई चालीसा लिरिक्स 

सरस्वती चालीसा लिरिक्स 

संतोषी चालीसा लिरिक्स 

काली चालीसा लिरिक्स 

पार्वती चालीसा लिरिक्स 

राम चालीसा लिरिक्स 

विष्णु चालीसा लिरिक्स 

सूर्य चालीसा लिरिक्स 

चन्द्रमा चालीसा लिरिक्स

Leave a Reply

Your email address will not be published.